Showing posts with label Health. Show all posts
Showing posts with label Health. Show all posts

shardi, Health SHARDIYO MAI SARRI KO

shardi, Health SHARDIYO MAI SARRI KO 

शर्दियो मई सर्री को ठण्ड जकड़न से दूर रकने केलिए

shardi, Health SHARDIYO MAI SARRI KO
shardi, Health SHARDIYO MAI SARRI KO 



postik khanpan par bhut deyandena

,
postik khanpan par bhut deyandena
padtahai
thanth aatehi har gharka mainyu badal jata hai
thanth she sharri ko bachane ke liye log kaie tarh
ke jatan karte he ye asha mosham hota hai
jablog bhut hebi fud khana pashnd karte he
esmosham me log gud or gee ka bahut
estemal karte he jaha ak or rajasthan or gujrat
me jaha log rotime gud or gee ko chur kar
churma banakar khana pashand karte he
bahi panjab or hariyana jeshi jagah me log
shubhke shamaye ak katori gee or gud
khakar hi ghar she nikalte hai

postik khanpan par bhut deyandena

padtahai

थैंथ आथि हर घरका मेनु बडल जाटा है

thanth she sharri ko bachane ke liye log kaie tarh

के जतन कते वो तू मोशम होदा है

जबलोग भुत हेबी फुद खन पशन्द कटे वह

esmosham me log gud or gee ka bahut

estemal karte उन्होंने jhaha ak या rajasthan या gujrat

me jaha log rotime gud or gee ko chur kar

चूरमा बानकर खाना पसन्द कर वह

बाही पंजब या हरयाना जेसी जग मेरा

shubhke shamaye ak कटोरी जी या गुड

खकर हाय घर वो निकलेते हैं
postik khanpan par bhut daiyandain

padtahai

JI HA SHARDIYO KE MOSHAM ME GEE OR GUD


ji ha shardiyo ke mosham me gee or gud kishi
shupar fudshe kam nahi he

aaiye jante he ki shardiyo me gee or gud ka
ak shath sheban karne she keya keya fayede he
ji ha shardiyo ke mosham me gee or gud kishi

शुपर फूढे काम ना वो



aaiye jante उन्होंने की शारदियो मुझे जी या गुद का

अक शत शबन करन वह कीया फिदा वह
ji ha shardiyo kai mosham mai gaiai or gud kishi

shupar phoodhe kaam na vo
shardi, Health SHARDIYO MAI SARRI KO
shardi, Health SHARDIYO MAI SARRI KO 
aagar apke gale ya fefdo me enfekshan ho

aagar apke gale ya fefdo me enfekshan ho

gaya he to rojana ratme shone she pehle
gud or gee ko garam karne ke bad eska
sheban karen asha karne she apka enfekshan
tik ho jayega
एगर एपके गेल फिर फेफडो मी एनफेकशन हो

गया वह रोतना रोतमे चमक गया वह पेहले

gud or gee ko garam karne ke bad eska

sheban karen asha karne she apka enfekshan

टिक हो जायगा
egar epake gel phir phephado mee enaphekashan ho

gaya vah rotana rotame chamak gaya vah pehale

shardi, Health SHARDIYO MAI SARRI KO
shardi, Health SHARDIYO MAI SARRI KO 

haddiyo ko rake majbut

dhodo me dard ki samsseya hone par
gud ka adrak ke shant paryog kafi labdayak shid
he partidin gud ke ak tukde ke shath adrak
khane she jhodo ke dard me aram milta he

dhodo me dard ki samsseya hone par

gud ka adrak ke shant paryog kafi labdayak shid

उन्होंने कहा कि गुड्डी के साथ तुकडे के साथ काम करना है

खने वो झोडो के मुझे मेरे अरमान मिल्ते वो
dhodo mai dard ki samssaiy honai par

gud ka adrak kai shant paryog kafi labdayak shid
shardi, Health SHARDIYO MAI SARRI KO
shardi, Health SHARDIYO MAI SARRI KO 


MUHKE CHALE

agar apke muh me chale ho gaye he to aath
katori gee ke shath ak dli gud ki khale
chale puritarh she tik ho jayege




gud or gee ka sheban karne she shardiyo me
apki rog partirothk chamta bad jati he or ap jaldi
bimari nahi padte hai

agar apke muh me chale ho gaye वह आंठ से

कटोरी गी के शत एक दली गुद के खोले

चले पूरितगढ़ वह टिक हो जायेंगे









gud or gee ka sheban karne she Shardiyo me

apki rog partirothk chamta bad jati he या एपी जलदी

बिमारि न पावत है
agar apkai muh mai chhalai ho gayai vah aanth se

katoree gee ke shat ek dalee gud ke khole
shardi, Health SHARDIYO MAI SARRI KO
shardi, Health SHARDIYO MAI SARRI KO 


ap sharri me thakan mehshus 

ap sharri me thakan mehshus 
karte he to ratko shoneshe pehle
ak dli khani chaiye sharriki thakan
chali jayegi

एपी शारि मी ठाकन मेहशस

karte वह चूहे को पीटते हैं

ak dli khani chaiye शारिकि थकन

चली जयेगी
epee shaari mee thaakan mehashas

kartai vah choohe ko peetate hain

Read More

diabetes information, healthinfo

diabetes information, healthinfo

diabetes information, healthinfo
diabetes information, healthinfo

Chelation therapy makes Type2 diabetes go into remission
In Canada today, there are more than 2 million people who have diabetes, usually Type 2 diabetes. It is so common that is has been called an epidemic. It is one of the fastest growing diseases, with over 60,000 new cases every year.
This may sound disastrous, but Type 2 diabetes can be managed very easily, and can even be sent into remission.
What is diabetes?
Your body needs insulin to convert sugar from food into energy. When your body cannot produce the insulin it needs, or cannot use the insulin it produces, you get diabetes. There are 3 types of diabetes.
Type 1 diabetes: The body makes very little or practically no insulin. This diabetes cannot be prevented or cured. People who have this type of diabetes need to take insulin always, to stay alive.
Type 2 diabetes: The body makes insulin, but is not able to use in effectively.
Gestational diabetes: Sometimes, when a woman is pregnant, her body is unable to use insulin properly. This diabetes usually disappears after the baby is born.
Type 2 diabetes
This type of diabetes often shows no symptoms. People only discover they have it when they go to the doctor for another problem.


Some of the symptoms are fatigue, frequent urination and an unusual thirst. The health risks of type 2 diabetes patients are serious. Over a period of time high blood sugar levels can cause blindness, heart disease, nerve damage, strokes, erectile dysfunction. It also reduces the supply of blood that flows to the limbs which often leads to the need for amputation.
Controlling your type 2 diabetes
Your diabetes must be controlled. Your doctor will often ask you to lose weight, stop smoking if you do so, and be physically active. All these will benefit you and give you a healthier lifestyle. But they are not so easy to do. Following strict diets are hard and some diets are too restrictive and hard to do.
Your doctor will also ask you to try and reduce your high blood pressure and high cholesterol levels. If dieting and physical exercise cannot bring down those levels, you will have to take prescription drugs.
The dangers of these drugs have been well researched. They have serious side effects that often cause memory loss, weakened muscles, cancer, pancreatic rot, depression, dizziness and many other illnesses.
Chelation Therapy: the all –natural way to cure type 2 diabetes
There’s been a lot of research done on alternative therapies that can send diabetes into remission. One of the most effective natural remedies is chelation therapy.
diabetes info
Chelation therapy was always used to reduce heavy metal toxicity. But physicians who were using this therapy found that their patients benefited in so many other ways.

Today, we know why that happens.
diabetes information
Chelation therapy uses a synthetic amino acid called EDTA, to cling onto heavy metal toxins that are slowly destroying your body and health. It binds with toxins and free radicals, and removes them from the body. As a result, the cholesterol is removed from the arteries and all 75,000 miles blood vessels. Once the cholesterol is gone, the blood starts flowing powerfully through the body. High blood pressure gets stabilized. The risks of heart disease are removed. The liver is cleansed. Excess fat is removed. You lose weight, in a healthy, easy and balanced way.
diabetes information
All the factors that contributed to type 2 diabetes are now under control, and the disease is sent into remission. There are no dangerous drugs, and no surgery involved.

To boost your body with good health, chelation therapy also delivers a powerhouse of vitamins, minerals and nutrients that boost your energy levels and take away all your fatigue and tiredness.

Read More

components of physical fitness, niyamit shaareerik gatividhi mein sanlagn

components of physical fitness, niyamit shaareerik gatividhi mein sanlagn 



components of physical fitness niyamit shaareerik gatividhi mein sanlagn 

components of physical fitness, niyamit shaareerik gatividhi mein sanlagn
components of physical fitness, niyamit shaareerik gatividhi mein sanlagn  
नियमित शारीरिक गतिविधि में संलग्न होना सबसे 

  • महत्वपूर्ण


चीजों में से एक है जिसे आप और आपका परिवार अपने स्वास्थ्य को बनाए रखने और सुधारने के लिए कर सकते हैं। व्यायाम कार्यक्रम पर विचार करते समय, गतिविधि के प्रकार, तीव्रता, अवधि और आवृत्ति के बारे में सोचना महत्वपूर्ण है। आपके द्वारा आनंदित गतिविधियों को चुनना भी महत्वपूर्ण है।

शारीरिक गतिविधि के चार मुख्य प्रकार हैं:

एरोबिक
स्नायु-सुदृढ़ीकरण
अस्थि-मजबूत करना, और
स्ट्रेचिंग
एरोबिक गतिविधि अक्सर आपके दिल और फेफड़ों को सबसे ज्यादा फायदा पहुंचाती है। इस तरह की गतिविधि आपकी बड़ी मांसपेशियों को स्थानांतरित करती है, जैसे कि आपकी बाहों और पैरों में। दौड़ना, तैरना, चलना, साइकिल चलाना, नृत्य करना और जंपिंग जैक करना एरोबिक गतिविधि के उदाहरण हैं। एरोबिक गतिविधि आपके दिल की धड़कन को सामान्य से तेज कर देती है और इस प्रकार की गतिविधि के दौरान आप कठिन साँस भी लेते हैं। समय के साथ, नियमित एरोबिक गतिविधि आपके दिल और फेफड़ों को मजबूत बनाती है और आपके धीरज को बढ़ाती है।
नियमित शारीरिक गतिविधि में संलग्न होना सबसे 
महत्वपूर्ण

मांसपेशियों को मजबूत करने वाली गतिविधियाँ आपकी मांसपेशियों की शक्ति, शक्ति और धीरज में सुधार करती हैं। पुशअप्स और सिटअपसिट-अप्स करना, वेट उठाना, सीढ़ियां चढ़ना और गार्डन में खुदाई करना मांसपेशियों को मजबूत करने वाली गतिविधियों के उदाहरण हैं। हड्डियों को मजबूत बनाने वाली गतिविधियों के साथ, आपके पैर, पैर या हाथ आपके शरीर के वजन का समर्थन करते हैं, और आपकी मांसपेशियां आपकी हड्डियों के खिलाफ धक्का देती हैं। यह आपकी हड्डियों को मजबूत बनाने में मदद करता है। दौड़ना, चलना, रस्सी कूदना और वजन उठाना, हड्डियों को मजबूत करने वाली गतिविधियों के उदाहरण हैं। मांसपेशियों को मजबूत बनाने और हड्डियों को मजबूत करने वाली गतिविधियां भी एरोबिक हो सकती हैं, यह इस बात पर निर्भर करता है कि वे आपके दिल और फेफड़ों को सामान्य से अधिक कठिन बनाते हैं या नहीं। उदाहरण के लिए, दौड़ना एक एरोबिक गतिविधि और एक हड्डी-मजबूत गतिविधि है।

स्ट्रेचिंग गतिविधियां आपके लचीलेपन और आपके जोड़ों को पूरी तरह से स्थानांतरित करने की आपकी क्षमता को बेहतर बनाने में मदद करती हैं। अपने पैर की उंगलियों को छूना, साइड स्ट्रेच करना और योग व्यायाम करना स्ट्रेचिंग गतिविधियों के उदाहरण हैं।
नियमित शारीरिक गतिविधि में संलग्न होना सबसे 
महत्वपूर्ण
यदि आप वजन कम करने की कोशिश कर रहे हैं, तो आमतौर पर प्रति सप्ताह कम से कम 150 मिनट की मध्यम-तीव्रता वाली एरोबिक गतिविधि करने की सिफारिश की जाती है। इस तरह के व्यायाम के उदाहरण तेज चलना, बाइक चलाना, तैराकी और टेनिस या बास्केटबॉल खेलना हैं। सप्ताह में कम समय में 150 मिनट तक फैला जा सकता है, उदाहरण के लिए, सप्ताह में कम से कम पांच बार 30 मिनट की गतिविधि करना।
नियमित शारीरिक गतिविधि में संलग्न होना सबसे 
महत्वपूर्ण
शारीरिक गतिविधि कार्यक्रम शुरू करने से पहले एक स्वास्थ्य सेवा प्रदाता को देखना एक अच्छा विचार है। यह विशेष रूप से 40 वर्ष से अधिक उम्र के पुरुषों और 50 वर्ष से अधिक उम्र की महिलाओं के लिए महत्वपूर्ण है जो एक जोरदार कार्यक्रम की योजना बनाते हैं या जिनके स्वास्थ्य की गंभीर स्थिति के लिए गंभीर स्वास्थ्य या जोखिम कारक हैं।
नियमित शारीरिक गतिविधि में संलग्न होना सबसे 

महत्वपूर्ण

शारीरिक रूप से सक्रिय रहना आपके दिल और फेफड़ों को स्वस्थ रखने के सर्वोत्तम तरीकों में से एक है। एक स्वस्थ आहार का पालन करना और धूम्रपान न करना आपके दिल और फेफड़ों को स्वस्थ रखने के अन्य महत्वपूर्ण तरीके हैं। कई अमेरिकी पर्याप्त सक्रिय नहीं हैं। हालांकि, अच्छी खबर यह है कि शारीरिक गतिविधि की मात्रा भी आपके स्वास्थ्य के लिए अच्छी है। आप जितने अधिक सक्रिय रहेंगे, आपको उतना ही फायदा होगा।




हिन्दी

अंग्रेज़ी

पुर्तगाली

नियमित शारीरिक गतिविधि में संलग्न होना सबसे 
महत्वपूर्ण

नियमित शारीरिक गतिविधि में संलग्न होना सबसे महत्वपूर्ण चीजों में से एक है जिसे आप और आपका परिवार अपने स्वास्थ्य को बनाए रखने और सुधारने के लिए कर सकते हैं। व्यायाम कार्यक्रम पर विचार करते समय, गतिविधि के प्रकार, तीव्रता, अवधि और आवृत्ति के बारे में सोचना महत्वपूर्ण है। आपके द्वारा आनंदित गतिविधियों को चुनना भी महत्वपूर्ण है।

शारीरिक गतिविधि के चार मुख्य प्रकार हैं:

एरोबिक
स्नायु-सुदृढ़ीकरण
अस्थि-मजबूत करना, और
स्ट्रेचिंग
एरोबिक गतिविधि अक्सर आपके दिल और फेफड़ों को सबसे ज्यादा फायदा पहुंचाती है। इस तरह की गतिविधि आपकी बड़ी मांसपेशियों को स्थानांतरित करती है, जैसे कि आपकी बाहों और पैरों में। दौड़ना, तैरना, चलना, साइकिल चलाना, नृत्य करना और जंपिंग जैक करना एरोबिक गतिविधि के उदाहरण हैं। एरोबिक गतिविधि आपके दिल की धड़कन को सामान्य से तेज कर देती है और इस प्रकार की गतिविधि के दौरान आप कठिन साँस भी लेते हैं। समय के साथ, नियमित एरोबिक गतिविधि आपके दिल और फेफड़ों को मजबूत बनाती है और आपके धीरज को बढ़ाती है।
नियमित शारीरिक गतिविधि में संलग्न होना सबसे 
महत्वपूर्ण
मांसपेशियों को मजबूत करने वाली गतिविधियाँ आपकी मांसपेशियों की शक्ति, शक्ति और धीरज में सुधार करती हैं। पुशअप्स और सिटअपसिट-अप्स करना, वेट उठाना, सीढ़ियां चढ़ना और गार्डन में खुदाई करना मांसपेशियों को मजबूत करने वाली गतिविधियों के उदाहरण हैं। हड्डियों को मजबूत बनाने वाली गतिविधियों के साथ, आपके पैर, पैर या हाथ आपके शरीर के वजन का समर्थन करते हैं, और आपकी मांसपेशियां आपकी हड्डियों के खिलाफ धक्का देती हैं। यह आपकी हड्डियों को मजबूत बनाने में मदद करता है। दौड़ना, चलना, रस्सी कूदना और वजन उठाना, हड्डियों को मजबूत करने वाली गतिविधियों के उदाहरण हैं। मांसपेशियों को मजबूत बनाने और हड्डियों को मजबूत करने वाली गतिविधियां भी एरोबिक हो सकती हैं, यह इस बात पर निर्भर करता है कि वे आपके दिल और फेफड़ों को सामान्य से अधिक कठिन बनाते हैं या नहीं। उदाहरण के लिए, दौड़ना एक एरोबिक गतिविधि और एक हड्डी-मजबूत गतिविधि है।

स्ट्रेचिंग गतिविधियां आपके लचीलेपन और आपके जोड़ों को पूरी तरह से स्थानांतरित करने की आपकी क्षमता को बेहतर बनाने में मदद करती हैं। अपने पैर की उंगलियों को छूना, साइड स्ट्रेच करना और योग व्यायाम करना स्ट्रेचिंग गतिविधियों के उदाहरण हैं।

यदि आप वजन कम करने की कोशिश कर रहे हैं, तो आमतौर पर प्रति सप्ताह कम से कम 150 मिनट की मध्यम-तीव्रता वाली एरोबिक गतिविधि करने की सिफारिश की जाती है। इस तरह के व्यायाम के उदाहरण तेज चलना, बाइक चलाना, तैराकी और टेनिस या बास्केटबॉल खेलना हैं। सप्ताह में कम समय में 150 मिनट तक फैला जा सकता है, उदाहरण के लिए, सप्ताह में कम से कम पांच बार 30 मिनट की गतिविधि करना।

शारीरिक गतिविधि कार्यक्रम शुरू करने से पहले एक स्वास्थ्य सेवा प्रदाता को देखना एक अच्छा विचार है। यह विशेष रूप से 40 वर्ष से अधिक उम्र के पुरुषों और 50 वर्ष से अधिक उम्र की महिलाओं के लिए महत्वपूर्ण है जो एक जोरदार कार्यक्रम की योजना बनाते हैं या जिनके स्वास्थ्य की गंभीर स्थिति के लिए गंभीर स्वास्थ्य या जोखिम कारक हैं।


शारीरिक रूप से सक्रिय रहना आपके दिल और फेफड़ों को स्वस्थ रखने के सर्वोत्तम तरीकों में से एक है। एक स्वस्थ आहार का पालन करना और धूम्रपान न करना आपके दिल और फेफड़ों को स्वस्थ रखने के अन्य महत्वपूर्ण तरीके हैं। कई अमेरिकी पर्याप्त सक्रिय नहीं हैं। हालांकि, अच्छी खबर यह है कि शारीरिक गतिविधि की मात्रा भी आपके स्वास्थ्य के लिए अच्छी है। आप जितने अधिक सक्रिय रहेंगे, आपको उतना ही फायदा होगा।

niyamit shaareerik gatividhi mein sanlagn
components of physical fitness niyamit shaareerik gatividhi mein sanlagn

hona sabase mahatvapoorn cheejon mein se ek hai jise aap aur aapaka parivaar apane svaasthy ko banae rakhane aur sudhaarane ke lie kar sakate hain. vyaayaam kaaryakram par vichaar karate samay, gatividhi ke prakaar, teevrata, avadhi aur aavrtti ke baare mein sochana mahatvapoorn hai. aapake dvaara aanandit
niyamit shaareerik gatividhi mein sanlagn
gatividhiyon ko chunana bhee mahatvapoorn hai. shaareerik gatividhi ke
 chaar mukhy prakaar hain: erobik snaayu-sudrdheekaran asthi-majaboot karana, aur streching erobik gatividhi aksar aapake dil aur phephadon ko sabase jyaada phaayada pahunchaatee hai. is tarah kee gatividhi aapakee badee maansapeshiyon ko sthaanaantarit karatee hai, jaise ki aapakee
components of physical fitness niyamit shaareerik gatividhi mein sanlagn 
baahon aur pairon mein. daudana, tairana, chalana, saikil chalaana, nrty karana aur jamping jaik karana erobik gatividhi ke udaaharan hain. erobik gatividhi aapake dil kee dhadakan ko saamaany se tej kar detee
components of physical fitness niyamit shaareerik gatividhi mein sanlagn 

hai aur is prakaar kee gatividhi ke dauraan aap kathin saans bhee lete hain. samay ke saath, niyamit erobik gatividhi aapake dil aur phephadon ko majaboot banaatee hai aur aapake dheeraj ko badhaatee hai. maansapeshiyon ko majaboot karane

vaalee gatividhiyaan aapakee maansapeshiyon kee shakti, shakti aur dheeraj mein sudhaar karatee hain. pushaps aur sitapasit-aps karana, vet uthaana, seedhiyaan chadhana aur gaardan mein khudaee karana maansapeshiyon ko majaboot karane vaalee gatividhiyon ke udaaharan hain. haddiyon ko majaboot
niyamit shaareerik gatividhi mein sanlagn
banaane vaalee gatividhiyon ke saath, aapake pair, pair ya haath aapake shareer ke vajan ka samarthan karate hain, aur aapakee maansapeshiyaan aapakee haddiyon ke khilaaph dhakka detee hain. yah aapakee haddiyon ko majaboot banaane mein madad karata hai. daudana,

chalana, rassee koodana aur vajan uthaana, haddiyon ko majaboot karane vaalee gatividhiyon ke udaaharan hain. maansapeshiyon ko majaboot banaane aur haddiyon ko majaboot karane vaalee gatividhiyaan bhee erobik ho sakatee hain, yah is baat par nirbhar karata hai ki ve aapake dil aur phephadon ko saamaany se

adhik kathin banaate hain ya nahin. udaaharan ke lie, daudana ek erobik gatividhi aur ek haddee-majaboot gatividhi hai. streching gatividhiyaan aapake lacheelepan aur aapake jodon ko pooree tarah se sthaanaantarit karane kee aapakee kshamata ko behatar banaane mein madad
niyamit shaareerik gatividhi mein sanlagn
karatee hain. apane pair kee ungaliyon ko chhoona, said strech karana aur yog vyaayaam karana streching gatividhiyon ke udaaharan hain. yadi aap vajan kam karane kee koshish kar rahe hain, to aamataur par prati saptaah kam se kam 150 minat kee madhyam-teevrata vaalee erobik

niyamit shaareerik gatividhi mein sanlagn
gatividhi karane kee siphaarish kee jaatee hai. is tarah ke vyaayaam ke udaaharan tej chalana, baik chalaana, tairaakee aur tenis ya baasketabol khelana hain. saptaah mein kam samay mein 150 minat tak phaila ja sakata hai, udaaharan ke lie, saptaah mein kam se kam paanch baar 30 minat kee
niyamit shaareerik gatividhi mein sanlagn
gatividhi karana. shaareerik gatividhi kaaryakram shuroo karane se pahale ek svaasthy seva pradaata ko dekhana ek achchha vichaar hai. yah vishesh roop se 40 varsh se adhik umr ke purushon aur 50 varsh se adhik umr kee mahilaon ke lie
niyamit shaareerik gatividhi mein sanlagn
mahatvapoorn hai jo ek joradaar kaaryakram kee yojana banaate hain ya jinake svaasthy kee gambheer sthiti ke lie gambheer svaasthy ya jokhim kaarak hain. shaareerik roop se sakriy rahana aapake dil aur phephadon ko svasth rakhane ke sarvottam tareekon mein se ek hai. ek
niyamit shaareerik gatividhi mein sanlagn
svasth aahaar ka paalan karana aur dhoomrapaan na karana aapake dil aur phephadon ko svasth rakhane ke any mahatvapoorn tareeke hain. kaee amerikee paryaapt sakriy nahin hain. haalaanki, achchhee khabar yah hai ki shaareerik gatividhi kee maatra bhee aapake svaasthy ke lie achchhee hai. aap jitane adhik sakriy rahenge, aapako utana hee phaayada hoga.

Read More

tulsi, ke chamatkaaree gun aur faayade ,tulsi in english,imc

tulsi, ke chamatkaaree gun aur faayade ,tulsi in english,imc


tulsi, ke chamatkaaree gun aur faayade ,tulsi in english,imc
tulsi, ke chamatkaaree gun aur faayade ,tulsi in english,imc

तुलसी के चमत्कारी गुण और फ़ायदे      


तुलसी - (ऑसीमम सैक्टम) एक द्विबीजपत्री तथा शाकीय, औषधीय पौधा है। यह झाड़ी के रूप में उगता है और १ से ३ फुट ऊँचा होता है। इसकी पत्तियाँ बैंगनी आभा वाली हल्के रोएँ से ढकी होती हैं। पत्तियाँ १ से २ इंच लम्बी सुगंधित और अंडाकार या आयताकार होती हैं। पुष्प मंजरी अति कोमल एवं ८ इंच लम्बी और बहुरंगी छटाओं वाली होती है, जिस पर बैंगनी और गुलाबी आभा वाले बहुत छोटे हृदयाकार पुष्प चक्रों में लगते हैं। बीज चपटे पीतवर्ण के छोटे काले चिह्नों से युक्त अंडाकार होते हैं। नए पौधे मुख्य रूप से वर्षा ऋतु में उगते है और शीतकाल में फूलते हैं। पौधा सामान्य रूप से दो-तीन वर्षों तक हरा बना रहता है। इसके बाद इसकी वृद्धावस्था आ जाती है। पत्ते कम और छोटे हो जाते हैं और शाखाएँ सूखी दिखाई देती हैं। इस समय उसे हटाकर नया पौधा लगाने की आवश्यकता प्रतीत होती है।

tulsi, ke chamatkaaree gun aur faayade ,tulsi in english,imc
tulsi, ke chamatkaaree gun aur faayade ,tulsi in english,imc
tulsi, ke chamatkaaree gun aur faayade ,tulsi in english,imc
tulsi, ke chamatkaaree gun aur faayade ,tulsi in english,imc
प्रजातियाँ

तुलसी की सामान्यतः निम्न प्रजातियाँ पाई जाती हैं:

१- ऑसीमम अमेरिकन (काली तुलसी) गम्भीरा या मामरी।२- ऑसीमम वेसिलिकम (मरुआ तुलसी) मुन्जरिकी या मुरसा।३- ऑसीमम वेसिलिकम मिनिमम।४- आसीमम ग्रेटिसिकम (राम तुलसी / वन तुलसी / अरण्यतुलसी)।५- ऑसीमम किलिमण्डचेरिकम (कर्पूर तुलसी)।६- ऑसीमम सैक्टम७- ऑसीमम विरिडी।

इनमें ऑसीमम सैक्टम को प्रधान या पवित्र तुलसी माना गया जाता है, इसकी भी दो प्रधान प्रजातियाँ हैं- श्री तुलसी जिसकी पत्तियाँ हरी होती हैं तथा कृष्णा तुलसी जिसकी पत्तियाँ निलाभ-कुछ बैंगनी रंग लिए होती हैं। श्री तुलसी के पत्र तथा शाखाएँ श्वेताभ होते हैं जबकि कृष्ण तुलसी के पत्रादि कृष्ण रंग के होते हैं। गुण, धर्म की दृष्टि से काली तुलसी को ही श्रेष्ठ माना गया है, परन्तु अधिकांश विद्वानों का मत है कि दोनों ही गुणों में समान हैं। तुलसी का पौधा हिंदू धर्म में पवित्र माना जाता है और लोग इसे अपने घर के आँगन या दरवाजे पर या बाग में लगाते हैं।(1) भारतीय संस्कृति के चिर पुरातन ग्रंथ वेदों में भी तुलसी के गुणों एवं उसकी उपयोगिता का वर्णन मिलता है।(2) इसके अतिरिक्त ऐलोपैथी, होमियोपैथी और यूनानी दवाओं में भी तुलसी का किसी न किसी रूप में प्रयोग किया जाता है।(3)
तुलसी का औषधीय महत्व

भारतीय संस्कृति में तुलसी को पूजनीय माना जाता है, धार्मिक महत्व होने के साथ-साथ तुलसी औषधीय गुणों से भी भरपूर है। आयुर्वेद में तो तुलसी को उसके औषधीय गुणों के कारण विशेष महत्व दिया गया है। तुलसी ऐसी औषधि है जो ज्यादातर बीमारियों में काम आती है। इसका उपयोग सर्दी-जुकाम, खॉसी, दंत रोग और श्वास सम्बंधी रोग के लिए बहुत ही फायदेमंद माना जाता है।

म्रत्यु के समय तुलसी के पत्तों का महत्त्व


मृत्यु के समय व्यक्ति के गले में कफ जमा हो जाने के कारण श्वसन क्रिया एवम बोलने में रुकावट आ जाती है। तुलसी के पत्तों के रस में कफ फाड़ने का विशेष गुण होता है इसलिए शैया पर लेटे व्यक्ति को यदि तुलसी के पत्तों का एक चम्मच रस पिला दिया जाये तो व्यक्ति के मुख से आवाज निकल सकती है।

tulasee - (oseemam saiktam) ek dvibeejapatree tatha shaakeey, aushadheey paudha hai. yah jhaadee ke roop mein ugata hai aur 1 se 3 phut ooncha hota hai. isakee pattiyaan bainganee aabha vaalee halke roen se dhakee hotee hain. pattiyaan 1 se 2 inch lambee sugandhit aur andaakaar ya aayataakaar hotee hain. pushp manjaree ati komal evan 8 inch lambee aur bahurangee chhataon vaalee hotee hai, jis par bainganee aur gulaabee aabha vaale bahut chhote hrdayaakaar pushp chakron mein lagate hain. beej chapate peetavarn ke chhote kaale chihnon se yukt andaakaar hote hain. nae paudhe mukhy roop se varsha rtu mein ugate hai aur sheetakaal mein phoolate hain. paudha saamaany roop se do-teen varshon tak hara bana rahata hai. isake baad isakee vrddhaavastha aa jaatee hai. patte kam aur chhote ho jaate hain aur shaakhaen sookhee dikhaee detee hain. is samay use hataakar naya paudha lagaane kee aavashyakata prateet hotee hai. prajaatiyaan tulasee kee saamaanyatah nimn prajaatiyaan paee jaatee hain: 1- oseemam amerikan (kaalee tulasee) gambheera ya maamaree.2- oseemam vesilikam (marua tulasee) munjarikee ya murasa.3- oseemam vesilikam minimam.4- aaseemam gretisikam (raam tulasee / van tulasee / aranyatulasee).5- oseemam kilimandacherikam (karpoor tulasee).6- oseemam saiktama7- oseemam viridee. inamen oseemam saiktam ko pradhaan ya pavitr tulasee maana gaya jaata hai, isakee bhee do pradhaan prajaatiyaan hain- shree tulasee jisakee pattiyaan haree hotee hain tatha krshna tulasee jisakee pattiyaan nilaabh-kuchh bainganee rang lie hotee hain. shree tulasee ke patr tatha shaakhaen shvetaabh hote hain jabaki krshn tulasee ke patraadi krshn rang ke hote hain. gun, dharm kee drshti se kaalee tulasee ko hee shreshth maana gaya hai, parantu adhikaansh vidvaanon ka mat hai ki donon hee gunon mein samaan hain. tulasee ka paudha hindoo dharm mein pavitr maana jaata hai aur log ise apane ghar ke aangan ya daravaaje par ya baag mein lagaate hain.(1) bhaarateey sanskrti ke chir puraatan granth vedon mein bhee tulasee ke gunon evan usakee upayogita ka varnan milata hai.(2) isake atirikt ailopaithee, homiyopaithee aur yoonaanee davaon mein bhee tulasee ka kisee na kisee roop mein prayog kiya jaata hai.(3) tulasee ka aushadheey mahatv bhaarateey sanskrti mein tulasee ko poojaneey maana jaata hai, dhaarmik mahatv hone ke saath-saath tulasee aushadheey gunon se bhee bharapoor hai. aayurved mein to tulasee ko usake aushadheey gunon ke kaaran vishesh mahatv diya gaya hai. tulasee aisee aushadhi hai jo jyaadaatar beemaariyon mein kaam aatee hai. isaka upayog sardee-jukaam, khosee, dant rog aur shvaas sambandhee rog ke lie bahut hee phaayademand maana jaata hai.

mratyu ke samay tulasee ke patton ka mahattv

mrtyu ke samay vyakti ke gale mein kaph jama ho jaane ke kaaran shvasan kriya evam bolane mein rukaavat aa jaatee hai. tulasee ke patton ke ras mein kaph phaadane ka vishesh gun hota hai isalie shaiya par lete vyakti ko yadi tulasee ke patton ka ek chammach ras pila diya jaaye to vyakti ke mukh se aavaaj nikal sakatee hai.

https://www.rajeshkushwah.online/2019/01/health-niyamit-shaareerik-gatividhi.html



Read More

dysmenorrhoea, health education healthtipsarticles ,menorrhagia

{healthtipsarticles}



dysmenorrhoea, health education healthtipsarticles  ,menorrhagia
dysmenorrhoea, health education healthtipsarticles  ,menorrhagia

हस्थमैथुन 
करने से धात रोग हो जाता है। और धातु पतली हो जाती है यह कोई बीमारी नही है। लेकिन अगर अधिक मात्रा में हस्‍तमैथुन किया जाता है। तो इसके गंभीर दुष्‍प्रभाव हो सकते हैं। आजकल युवाओं को हस्थमैथुन करने की लत सी पढ़ गयी है। इससे युवाओं की जिंदगी नरक बन जाती है। युवाओं से अनुरोध है की वे इस बुरी लत को छोड़ दें। और इससे आई कमज़ोरी को दूर करने के लिए ये उपाय करे।
 1 दूध
 दूध हमारे शरीर के लिए बहुत जरूरी है। दूध पीने से हमारे शरीर में शक्ति आती है। इसलिए रोजाना दूध का सेवन जरूर करना चाहिए। सर्दियों के मौसम मे केसर वाला दूध पीने से पौरुष शक्ति बढ़ती है। खजूर शरीर को ताकतवर बनाने के लिए
 2 खजूर
 बेहद जरूरी है। आपको खजूर का नियमित सेवन करना चाहिये। कमजोरी मिटाने के लिए आठ से दस खजूर रोज़ खाने चाहिए। और खजूर के साथ एक गिलास दूध पीना चाहिए। जो कि बहुत फायदेमंद होता है केले केले के सेवन से शरीर ताकवर बनता है। आप हर रोज़ एक गिलास दूध के साथ

 2 केला सुबह औऱ शाम जरुर खाये। इन दोनों के खाने से आपके शरीर पर जल्दी ही प्रभाव दिखना शुरु हो जायेगा। और बहुत जल्दी ही शरीर की ताकत में वृद्धि होनी दिख जाएगी।

 3 हरी सब्जियों हरी सब्ज़िया हमारे शरीर के लिए बहुत जरूर है। इसके सेवन से हमारे शरीर को बहुत लाभ होता है। हरी सब्जियों का सेवन ज्यादा करे। खाना खाते समय सलाद ज्यादा खाए। ये आपके लिए पोष्टिक आहार का काम करेगी। और आपको ये कमजोरी में जल्दी लाभ पहुंचाएगी।

4उड़द
की दाल दाल हमारे सेहत के लिए बहुत ही जरूरी है। और उड़द की दाल तो कमजोरी के लिए बहुत उपयोगी है। उड़द की दाल का सेवन आप खाने के साथ भी कर सकते है। उड़द की दाल में थोड़ा सा घी भी डाल ले। ये आपके शरीर को भी लाभ पहुंचाएगा। आपको अगर ये पोस्ट अच्छी लगी तो कमेंट में जरूर बताएं।
dysmenorrhoea health education healthtipsarticles  ,menorrhagia
Dysmenorrhoea is a disease of stomach. And the metal becomes thin, it is not a disease. But if more amount of masturbation is done. Then it can have serious side effects. Nowadays the youth have been taught to get rid of depression. This makes the lives of the youngsters become hell. The youth are requested to leave this bad habit. And take measures to overcome this weakness.
 1 Milk
 Milk is very important for our body. Drinking milk produces power in our body. Therefore, daily consumption of milk should definitely be done. Drinking a saffron milk in the winter season increases the virgin power. To make palm body strong
 2 dates
 Very important. You should eat dates regularly. To remove weakness, eat eight to ten dates daily. And drink a glass of milk with dates. Which is very beneficial, banana banana makes the body saffron. You have a glass of milk every day

 2 bananas eat morning and evening. By eating these two, your body will soon start to see the effects. And soon there will be an increase in the strength of the body.

 3 green vegetables green szijiya is very important for our body. By consuming it our body has lots of benefits. Eat more green vegetables. Salad eat more while eating food. This will work as a nutritious food for you. And you will be able to benefit quickly in this weakness.

4 Urad Dal Dal is very important for our health. And urad pulse is very useful for weakness. You can also consume urad dal along with food. Put a little bit of ghee in urad dal also. It will also benefit your body. If you like this post, please tell it in the comment.

Read More