b2f'/> tulasee ke chamatkaaree gun aur faayade तुलसी के चमत्कारी गुण और फ़ायदे | Health10 - New health tips,ingnews health tips, health tips,health mean

1.06.2019

tulasee ke chamatkaaree gun aur faayade तुलसी के चमत्कारी गुण और फ़ायदे | Health10

tulasee ke chamatkaaree gun aur faayade

तुलसी के चमत्कारी गुण और फ़ायदे | Health



तुलसी के चमत्कारी गुण और फ़ायदे      

तुलसी - (ऑसीमम सैक्टम) एक द्विबीजपत्री तथा शाकीय, औषधीय पौधा है। यह झाड़ी के रूप में उगता है और १ से ३ फुट ऊँचा होता है। इसकी पत्तियाँ बैंगनी आभा वाली हल्के रोएँ से ढकी होती हैं। पत्तियाँ १ से २ इंच लम्बी सुगंधित और अंडाकार या आयताकार होती हैं। पुष्प मंजरी अति कोमल एवं ८ इंच लम्बी और बहुरंगी छटाओं वाली होती है, जिस पर बैंगनी और गुलाबी आभा वाले बहुत छोटे हृदयाकार पुष्प चक्रों में लगते हैं। बीज चपटे पीतवर्ण के छोटे काले चिह्नों से युक्त अंडाकार होते हैं। नए पौधे मुख्य रूप से वर्षा ऋतु में उगते है और शीतकाल में फूलते हैं। पौधा सामान्य रूप से दो-तीन वर्षों तक हरा बना रहता है। इसके बाद इसकी वृद्धावस्था आ जाती है। पत्ते कम और छोटे हो जाते हैं और शाखाएँ सूखी दिखाई देती हैं। इस समय उसे हटाकर नया पौधा लगाने की आवश्यकता प्रतीत होती है।


प्रजातियाँ

तुलसी की सामान्यतः निम्न प्रजातियाँ पाई जाती हैं:

१- ऑसीमम अमेरिकन (काली तुलसी) गम्भीरा या मामरी।२- ऑसीमम वेसिलिकम (मरुआ तुलसी) मुन्जरिकी या मुरसा।३- ऑसीमम वेसिलिकम मिनिमम।४- आसीमम ग्रेटिसिकम (राम तुलसी / वन तुलसी / अरण्यतुलसी)।५- ऑसीमम किलिमण्डचेरिकम (कर्पूर तुलसी)।६- ऑसीमम सैक्टम७- ऑसीमम विरिडी।

इनमें ऑसीमम सैक्टम को प्रधान या पवित्र तुलसी माना गया जाता है, इसकी भी दो प्रधान प्रजातियाँ हैं- श्री तुलसी जिसकी पत्तियाँ हरी होती हैं तथा कृष्णा तुलसी जिसकी पत्तियाँ निलाभ-कुछ बैंगनी रंग लिए होती हैं। श्री तुलसी के पत्र तथा शाखाएँ श्वेताभ होते हैं जबकि कृष्ण तुलसी के पत्रादि कृष्ण रंग के होते हैं। गुण, धर्म की दृष्टि से काली तुलसी को ही श्रेष्ठ माना गया है, परन्तु अधिकांश विद्वानों का मत है कि दोनों ही गुणों में समान हैं। तुलसी का पौधा हिंदू धर्म में पवित्र माना जाता है और लोग इसे अपने घर के आँगन या दरवाजे पर या बाग में लगाते हैं।(1) भारतीय संस्कृति के चिर पुरातन ग्रंथ वेदों में भी तुलसी के गुणों एवं उसकी उपयोगिता का वर्णन मिलता है।(2) इसके अतिरिक्त ऐलोपैथी, होमियोपैथी और यूनानी दवाओं में भी तुलसी का किसी न किसी रूप में प्रयोग किया जाता है।(3)
तुलसी का औषधीय महत्व

भारतीय संस्कृति में तुलसी को पूजनीय माना जाता है, धार्मिक महत्व होने के साथ-साथ तुलसी औषधीय गुणों से भी भरपूर है। आयुर्वेद में तो तुलसी को उसके औषधीय गुणों के कारण विशेष महत्व दिया गया है। तुलसी ऐसी औषधि है जो ज्यादातर बीमारियों में काम आती है। इसका उपयोग सर्दी-जुकाम, खॉसी, दंत रोग और श्वास सम्बंधी रोग के लिए बहुत ही फायदेमंद माना जाता है।

म्रत्यु के समय तुलसी के पत्तों का महत्त्व


मृत्यु के समय व्यक्ति के गले में कफ जमा हो जाने के कारण श्वसन क्रिया एवम बोलने में रुकावट आ जाती है। तुलसी के पत्तों के रस में कफ फाड़ने का विशेष गुण होता है इसलिए शैया पर लेटे व्यक्ति को यदि तुलसी के पत्तों का एक चम्मच रस पिला दिया जाये तो व्यक्ति के मुख से आवाज निकल सकती है।


tulasee - (oseemam saiktam) ek dvibeejapatree tatha shaakeey, aushadheey paudha hai. yah jhaadee ke roop mein ugata hai aur 1 se 3 phut ooncha hota hai. isakee pattiyaan bainganee aabha vaalee halke roen se dhakee hotee hain. pattiyaan 1 se 2 inch lambee sugandhit aur andaakaar ya aayataakaar hotee hain. pushp manjaree ati komal evan 8 inch lambee aur bahurangee chhataon vaalee hotee hai, jis par bainganee aur gulaabee aabha vaale bahut chhote hrdayaakaar pushp chakron mein lagate hain. beej chapate peetavarn ke chhote kaale chihnon se yukt andaakaar hote hain. nae paudhe mukhy roop se varsha rtu mein ugate hai aur sheetakaal mein phoolate hain. paudha saamaany roop se do-teen varshon tak hara bana rahata hai. isake baad isakee vrddhaavastha aa jaatee hai. patte kam aur chhote ho jaate hain aur shaakhaen sookhee dikhaee detee hain. is samay use hataakar naya paudha lagaane kee aavashyakata prateet hotee hai. prajaatiyaan tulasee kee saamaanyatah nimn prajaatiyaan paee jaatee hain: 1- oseemam amerikan (kaalee tulasee) gambheera ya maamaree.2- oseemam vesilikam (marua tulasee) munjarikee ya murasa.3- oseemam vesilikam minimam.4- aaseemam gretisikam (raam tulasee / van tulasee / aranyatulasee).5- oseemam kilimandacherikam (karpoor tulasee).6- oseemam saiktama7- oseemam viridee. inamen oseemam saiktam ko pradhaan ya pavitr tulasee maana gaya jaata hai, isakee bhee do pradhaan prajaatiyaan hain- shree tulasee jisakee pattiyaan haree hotee hain tatha krshna tulasee jisakee pattiyaan nilaabh-kuchh bainganee rang lie hotee hain. shree tulasee ke patr tatha shaakhaen shvetaabh hote hain jabaki krshn tulasee ke patraadi krshn rang ke hote hain. gun, dharm kee drshti se kaalee tulasee ko hee shreshth maana gaya hai, parantu adhikaansh vidvaanon ka mat hai ki donon hee gunon mein samaan hain. tulasee ka paudha hindoo dharm mein pavitr maana jaata hai aur log ise apane ghar ke aangan ya daravaaje par ya baag mein lagaate hain.(1) bhaarateey sanskrti ke chir puraatan granth vedon mein bhee tulasee ke gunon evan usakee upayogita ka varnan milata hai.(2) isake atirikt ailopaithee, homiyopaithee aur yoonaanee davaon mein bhee tulasee ka kisee na kisee roop mein prayog kiya jaata hai.(3) tulasee ka aushadheey mahatv bhaarateey sanskrti mein tulasee ko poojaneey maana jaata hai, dhaarmik mahatv hone ke saath-saath tulasee aushadheey gunon se bhee bharapoor hai. aayurved mein to tulasee ko usake aushadheey gunon ke kaaran vishesh mahatv diya gaya hai. tulasee aisee aushadhi hai jo jyaadaatar beemaariyon mein kaam aatee hai. isaka upayog sardee-jukaam, khosee, dant rog aur shvaas sambandhee rog ke lie bahut hee phaayademand maana jaata hai. mratyu ke samay tulasee ke patton ka mahattv mrtyu ke samay vyakti ke gale mein kaph jama ho jaane ke kaaran shvasan kriya evam bolane mein rukaavat aa jaatee hai. tulasee ke patton ke ras mein kaph phaadane ka vishesh gun hota hai isalie shaiya par lete vyakti ko yadi tulasee ke patton ka ek chammach ras pila diya jaaye to vyakti ke mukh se aavaaj nikal sakatee hai.

https://www.rajeshkushwah.online/2019/01/health-niyamit-shaareerik-gatividhi.html



No comments:

Post a Comment

comment post