b2f'/> Health niyamit shaareerik gatividhi mein sanlagn नियमित शारीरिक गतिविधि में संलग्न होना सबसे महत्वपूर्ण9 - New health tips,ingnews health tips, health tips,health mean

1.02.2019

Health niyamit shaareerik gatividhi mein sanlagn नियमित शारीरिक गतिविधि में संलग्न होना सबसे महत्वपूर्ण9

नियमित शारीरिक गतिविधि में संलग्न होना सबसे 
महत्वपूर्ण



Health  niyamit shaareerik gatividhi mein sanlagn

Health  niyamit shaareerik gatividhi mein sanlagn
नियमित शारीरिक गतिविधि में संलग्न होना सबसे 




चीजों में से एक है जिसे आप और आपका परिवार अपने स्वास्थ्य को बनाए रखने और सुधारने के लिए कर सकते हैं। व्यायाम कार्यक्रम पर विचार करते समय, गतिविधि के प्रकार, तीव्रता, अवधि और आवृत्ति के बारे में सोचना महत्वपूर्ण है। आपके द्वारा आनंदित गतिविधियों को चुनना भी महत्वपूर्ण है।

शारीरिक गतिविधि के चार मुख्य प्रकार हैं:

एरोबिक
स्नायु-सुदृढ़ीकरण
अस्थि-मजबूत करना, और
स्ट्रेचिंग
एरोबिक गतिविधि अक्सर आपके दिल और फेफड़ों को सबसे ज्यादा फायदा पहुंचाती है। इस तरह की गतिविधि आपकी बड़ी मांसपेशियों को स्थानांतरित करती है, जैसे कि आपकी बाहों और पैरों में। दौड़ना, तैरना, चलना, साइकिल चलाना, नृत्य करना और जंपिंग जैक करना एरोबिक गतिविधि के उदाहरण हैं। एरोबिक गतिविधि आपके दिल की धड़कन को सामान्य से तेज कर देती है और इस प्रकार की गतिविधि के दौरान आप कठिन साँस भी लेते हैं। समय के साथ, नियमित एरोबिक गतिविधि आपके दिल और फेफड़ों को मजबूत बनाती है और आपके धीरज को बढ़ाती है।
नियमित शारीरिक गतिविधि में संलग्न होना सबसे 
महत्वपूर्ण

मांसपेशियों को मजबूत करने वाली गतिविधियाँ आपकी मांसपेशियों की शक्ति, शक्ति और धीरज में सुधार करती हैं। पुशअप्स और सिटअपसिट-अप्स करना, वेट उठाना, सीढ़ियां चढ़ना और गार्डन में खुदाई करना मांसपेशियों को मजबूत करने वाली गतिविधियों के उदाहरण हैं। हड्डियों को मजबूत बनाने वाली गतिविधियों के साथ, आपके पैर, पैर या हाथ आपके शरीर के वजन का समर्थन करते हैं, और आपकी मांसपेशियां आपकी हड्डियों के खिलाफ धक्का देती हैं। यह आपकी हड्डियों को मजबूत बनाने में मदद करता है। दौड़ना, चलना, रस्सी कूदना और वजन उठाना, हड्डियों को मजबूत करने वाली गतिविधियों के उदाहरण हैं। मांसपेशियों को मजबूत बनाने और हड्डियों को मजबूत करने वाली गतिविधियां भी एरोबिक हो सकती हैं, यह इस बात पर निर्भर करता है कि वे आपके दिल और फेफड़ों को सामान्य से अधिक कठिन बनाते हैं या नहीं। उदाहरण के लिए, दौड़ना एक एरोबिक गतिविधि और एक हड्डी-मजबूत गतिविधि है।

स्ट्रेचिंग गतिविधियां आपके लचीलेपन और आपके जोड़ों को पूरी तरह से स्थानांतरित करने की आपकी क्षमता को बेहतर बनाने में मदद करती हैं। अपने पैर की उंगलियों को छूना, साइड स्ट्रेच करना और योग व्यायाम करना स्ट्रेचिंग गतिविधियों के उदाहरण हैं।
नियमित शारीरिक गतिविधि में संलग्न होना सबसे 
महत्वपूर्ण
यदि आप वजन कम करने की कोशिश कर रहे हैं, तो आमतौर पर प्रति सप्ताह कम से कम 150 मिनट की मध्यम-तीव्रता वाली एरोबिक गतिविधि करने की सिफारिश की जाती है। इस तरह के व्यायाम के उदाहरण तेज चलना, बाइक चलाना, तैराकी और टेनिस या बास्केटबॉल खेलना हैं। सप्ताह में कम समय में 150 मिनट तक फैला जा सकता है, उदाहरण के लिए, सप्ताह में कम से कम पांच बार 30 मिनट की गतिविधि करना।
नियमित शारीरिक गतिविधि में संलग्न होना सबसे 
महत्वपूर्ण
शारीरिक गतिविधि कार्यक्रम शुरू करने से पहले एक स्वास्थ्य सेवा प्रदाता को देखना एक अच्छा विचार है। यह विशेष रूप से 40 वर्ष से अधिक उम्र के पुरुषों और 50 वर्ष से अधिक उम्र की महिलाओं के लिए महत्वपूर्ण है जो एक जोरदार कार्यक्रम की योजना बनाते हैं या जिनके स्वास्थ्य की गंभीर स्थिति के लिए गंभीर स्वास्थ्य या जोखिम कारक हैं।
नियमित शारीरिक गतिविधि में संलग्न होना सबसे 
Health  niyamit shaareerik gatividhi mein sanlagn

महत्वपूर्ण

शारीरिक रूप से सक्रिय रहना आपके दिल और फेफड़ों को स्वस्थ रखने के सर्वोत्तम तरीकों में से एक है। एक स्वस्थ आहार का पालन करना और धूम्रपान न करना आपके दिल और फेफड़ों को स्वस्थ रखने के अन्य महत्वपूर्ण तरीके हैं। कई अमेरिकी पर्याप्त सक्रिय नहीं हैं। हालांकि, अच्छी खबर यह है कि शारीरिक गतिविधि की मात्रा भी आपके स्वास्थ्य के लिए अच्छी है। आप जितने अधिक सक्रिय रहेंगे, आपको उतना ही फायदा होगा।




हिन्दी

अंग्रेज़ी

पुर्तगाली

नियमित शारीरिक गतिविधि में संलग्न होना सबसे 
महत्वपूर्ण

नियमित शारीरिक गतिविधि में संलग्न होना सबसे महत्वपूर्ण चीजों में से एक है जिसे आप और आपका परिवार अपने स्वास्थ्य को बनाए रखने और सुधारने के लिए कर सकते हैं। व्यायाम कार्यक्रम पर विचार करते समय, गतिविधि के प्रकार, तीव्रता, अवधि और आवृत्ति के बारे में सोचना महत्वपूर्ण है। आपके द्वारा आनंदित गतिविधियों को चुनना भी महत्वपूर्ण है।

शारीरिक गतिविधि के चार मुख्य प्रकार हैं:

एरोबिक
स्नायु-सुदृढ़ीकरण
अस्थि-मजबूत करना, और
स्ट्रेचिंग
एरोबिक गतिविधि अक्सर आपके दिल और फेफड़ों को सबसे ज्यादा फायदा पहुंचाती है। इस तरह की गतिविधि आपकी बड़ी मांसपेशियों को स्थानांतरित करती है, जैसे कि आपकी बाहों और पैरों में। दौड़ना, तैरना, चलना, साइकिल चलाना, नृत्य करना और जंपिंग जैक करना एरोबिक गतिविधि के उदाहरण हैं। एरोबिक गतिविधि आपके दिल की धड़कन को सामान्य से तेज कर देती है और इस प्रकार की गतिविधि के दौरान आप कठिन साँस भी लेते हैं। समय के साथ, नियमित एरोबिक गतिविधि आपके दिल और फेफड़ों को मजबूत बनाती है और आपके धीरज को बढ़ाती है।
नियमित शारीरिक गतिविधि में संलग्न होना सबसे 
महत्वपूर्ण
मांसपेशियों को मजबूत करने वाली गतिविधियाँ आपकी मांसपेशियों की शक्ति, शक्ति और धीरज में सुधार करती हैं। पुशअप्स और सिटअपसिट-अप्स करना, वेट उठाना, सीढ़ियां चढ़ना और गार्डन में खुदाई करना मांसपेशियों को मजबूत करने वाली गतिविधियों के उदाहरण हैं। हड्डियों को मजबूत बनाने वाली गतिविधियों के साथ, आपके पैर, पैर या हाथ आपके शरीर के वजन का समर्थन करते हैं, और आपकी मांसपेशियां आपकी हड्डियों के खिलाफ धक्का देती हैं। यह आपकी हड्डियों को मजबूत बनाने में मदद करता है। दौड़ना, चलना, रस्सी कूदना और वजन उठाना, हड्डियों को मजबूत करने वाली गतिविधियों के उदाहरण हैं। मांसपेशियों को मजबूत बनाने और हड्डियों को मजबूत करने वाली गतिविधियां भी एरोबिक हो सकती हैं, यह इस बात पर निर्भर करता है कि वे आपके दिल और फेफड़ों को सामान्य से अधिक कठिन बनाते हैं या नहीं। उदाहरण के लिए, दौड़ना एक एरोबिक गतिविधि और एक हड्डी-मजबूत गतिविधि है।

स्ट्रेचिंग गतिविधियां आपके लचीलेपन और आपके जोड़ों को पूरी तरह से स्थानांतरित करने की आपकी क्षमता को बेहतर बनाने में मदद करती हैं। अपने पैर की उंगलियों को छूना, साइड स्ट्रेच करना और योग व्यायाम करना स्ट्रेचिंग गतिविधियों के उदाहरण हैं।

यदि आप वजन कम करने की कोशिश कर रहे हैं, तो आमतौर पर प्रति सप्ताह कम से कम 150 मिनट की मध्यम-तीव्रता वाली एरोबिक गतिविधि करने की सिफारिश की जाती है। इस तरह के व्यायाम के उदाहरण तेज चलना, बाइक चलाना, तैराकी और टेनिस या बास्केटबॉल खेलना हैं। सप्ताह में कम समय में 150 मिनट तक फैला जा सकता है, उदाहरण के लिए, सप्ताह में कम से कम पांच बार 30 मिनट की गतिविधि करना।

शारीरिक गतिविधि कार्यक्रम शुरू करने से पहले एक स्वास्थ्य सेवा प्रदाता को देखना एक अच्छा विचार है। यह विशेष रूप से 40 वर्ष से अधिक उम्र के पुरुषों और 50 वर्ष से अधिक उम्र की महिलाओं के लिए महत्वपूर्ण है जो एक जोरदार कार्यक्रम की योजना बनाते हैं या जिनके स्वास्थ्य की गंभीर स्थिति के लिए गंभीर स्वास्थ्य या जोखिम कारक हैं।


शारीरिक रूप से सक्रिय रहना आपके दिल और फेफड़ों को स्वस्थ रखने के सर्वोत्तम तरीकों में से एक है। एक स्वस्थ आहार का पालन करना और धूम्रपान न करना आपके दिल और फेफड़ों को स्वस्थ रखने के अन्य महत्वपूर्ण तरीके हैं। कई अमेरिकी पर्याप्त सक्रिय नहीं हैं। हालांकि, अच्छी खबर यह है कि शारीरिक गतिविधि की मात्रा भी आपके स्वास्थ्य के लिए अच्छी है। आप जितने अधिक सक्रिय रहेंगे, आपको उतना ही फायदा होगा।

niyamit shaareerik gatividhi mein sanlagn
Health  niyamit shaareerik gatividhi mein sanlagn

niyamit shaareerik gatividhi mein sanlagn

hona sabase mahatvapoorn cheejon mein se ek hai jise aap aur aapaka parivaar apane svaasthy ko banae rakhane aur sudhaarane ke lie kar sakate hain. vyaayaam kaaryakram par vichaar karate samay, gatividhi ke prakaar, teevrata, avadhi aur aavrtti ke baare mein sochana mahatvapoorn hai. aapake dvaara aanandit
niyamit shaareerik gatividhi mein sanlagn
gatividhiyon ko chunana bhee mahatvapoorn hai. shaareerik gatividhi ke
 chaar mukhy prakaar hain: erobik snaayu-sudrdheekaran asthi-majaboot karana, aur streching erobik gatividhi aksar aapake dil aur phephadon ko sabase jyaada phaayada pahunchaatee hai. is tarah kee gatividhi aapakee badee maansapeshiyon ko sthaanaantarit karatee hai, jaise ki aapakee
niyamit shaareerik gatividhi mein sanlagn
baahon aur pairon mein. daudana, tairana, chalana, saikil chalaana, nrty karana aur jamping jaik karana erobik gatividhi ke udaaharan hain. erobik gatividhi aapake dil kee dhadakan ko saamaany se tej kar detee
niyamit shaareerik gatividhi mein sanlagn
hai aur is prakaar kee gatividhi ke dauraan aap kathin saans bhee lete hain. samay ke saath, niyamit erobik gatividhi aapake dil aur phephadon ko majaboot banaatee hai aur aapake dheeraj ko badhaatee hai. maansapeshiyon ko majaboot karane
niyamit be gatividhi mein sanlagn
vaalee gatividhiyaan aapakee maansapeshiyon kee shakti, shakti aur dheeraj mein sudhaar karatee hain. pushaps aur sitapasit-aps karana, vet uthaana, seedhiyaan chadhana aur gaardan mein khudaee karana maansapeshiyon ko majaboot karane vaalee gatividhiyon ke udaaharan hain. haddiyon ko majaboot
niyamit shaareerik gatividhi mein sanlagn
banaane vaalee gatividhiyon ke saath, aapake pair, pair ya haath aapake shareer ke vajan ka samarthan karate hain, aur aapakee maansapeshiyaan aapakee haddiyon ke khilaaph dhakka detee hain. yah aapakee haddiyon ko majaboot banaane mein madad karata hai. daudana,
niyamit shaareerik gatividhi mein sanlagn
chalana, rassee koodana aur vajan uthaana, haddiyon ko majaboot karane vaalee gatividhiyon ke udaaharan hain. maansapeshiyon ko majaboot banaane aur haddiyon ko majaboot karane vaalee gatividhiyaan bhee erobik ho sakatee hain, yah is baat par nirbhar karata hai ki ve aapake dil aur phephadon ko saamaany se
niyamit shaareerik gatividhi mein sanlagn
adhik kathin banaate hain ya nahin. udaaharan ke lie, daudana ek erobik gatividhi aur ek haddee-majaboot gatividhi hai. streching gatividhiyaan aapake lacheelepan aur aapake jodon ko pooree tarah se sthaanaantarit karane kee aapakee kshamata ko behatar banaane mein madad
niyamit shaareerik gatividhi mein sanlagn
karatee hain. apane pair kee ungaliyon ko chhoona, said strech karana aur yog vyaayaam karana streching gatividhiyon ke udaaharan hain. yadi aap vajan kam karane kee koshish kar rahe hain, to aamataur par prati saptaah kam se kam 150 minat kee madhyam-teevrata vaalee erobik

niyamit shaareerik gatividhi mein sanlagn
gatividhi karane kee siphaarish kee jaatee hai. is tarah ke vyaayaam ke udaaharan tej chalana, baik chalaana, tairaakee aur tenis ya baasketabol khelana hain. saptaah mein kam samay mein 150 minat tak phaila ja sakata hai, udaaharan ke lie, saptaah mein kam se kam paanch baar 30 minat kee
niyamit shaareerik gatividhi mein sanlagn
gatividhi karana. shaareerik gatividhi kaaryakram shuroo karane se pahale ek svaasthy seva pradaata ko dekhana ek achchha vichaar hai. yah vishesh roop se 40 varsh se adhik umr ke purushon aur 50 varsh se adhik umr kee mahilaon ke lie
niyamit shaareerik gatividhi mein sanlagn
mahatvapoorn hai jo ek joradaar kaaryakram kee yojana banaate hain ya jinake svaasthy kee gambheer sthiti ke lie gambheer svaasthy ya jokhim kaarak hain. shaareerik roop se sakriy rahana aapake dil aur phephadon ko svasth rakhane ke sarvottam tareekon mein se ek hai. ek
niyamit shaareerik gatividhi mein sanlagn
svasth aahaar ka paalan karana aur dhoomrapaan na karana aapake dil aur phephadon ko svasth rakhane ke any mahatvapoorn tareeke hain. kaee amerikee paryaapt sakriy nahin hain. haalaanki, achchhee khabar yah hai ki shaareerik gatividhi kee maatra bhee aapake svaasthy ke lie achchhee hai. aap jitane adhik sakriy rahenge, aapako utana hee phaayada hoga.

No comments:

Post a Comment

comment post