Joks hakigat 1

Joks  hakigat 

बहुत सुंदर
     दिल को छूने वाली लाईन

सपने मे अपनी मौत को करीब से देखा

कफ़न में लिपटे तन जलते अपने शरीर को देखा.
Joks hakigat 1
Joks hakigat 1

खड़े थे लोग हाथ बांधे एक कतार में...

Joks  hakigat 


कुछ थे परेशान कुछ उदास थे .....

पर कुछ छुपा रहे अपनी मुस्कान थे..

दूर खड़ा देख रहा था मैं ये सारा मंजर.....

.....तभी किसी ने हाथ बढा कर मेरा हाथ थाम लिया ....

और जब देखा चेहरा उसका तो मैं बड़ा हैरान था.....

हाथ थामने वाला कोई और नही...मेरा भगवान था...

चेहरे पर मुस्कान और नंगे पाँव था....

जब देखा मैंने उस की तरफ जिज्ञासा भरी नज़रों से.....

तो हँस कर बोला....
"तूने हर दिन दो घडी जपा मेरा नाम था.....
आज प्यारे उसका क़र्ज़ चुकाने आया हूँ...।"

रो दिया मै.... अपनी बेवक़ूफ़ियो पर तब ये सोच कर .....


जिसको दो घडी जपा
वो बचाने आये है...
और जिन मे हर घडी रमा रहा
वो शमशान पहुचाने आये है....


तभी खुली आँख मेरी बिस्तर पर विराजमान था.....

कितना था दीपक हकीकत से अनजान था....

6 comments

Great post. I was checking constantly this blog and I'm
impressed! Extremely helpful information specially the last part :) I care for such
info much. I was seeking this certain information for a very long time.

Thank you and good luck.

Hi there to all, the contents present at this web page are actually amazing for people experience, well, keep up the good work fellows.

Good info. Lucky me I discovered your site by accident (stumbleupon).
I've saved it for later!

Nice read, I just passed this onto a friend who was doing some research on that.
And he actually bought me lunch since I found it for him smile
So let me rephrase that: Thank you for lunch!

As I website owner I conceive the subject matter here is very wonderful,
regards for your efforts.


EmoticonEmoticon